क्या दुनिया में एक काबिलियत है?

दुनिया की वहन क्षमता एक सिद्धांत है जो बताता है कि दुनिया के जीवमंडल में संतुलन है यह अपने उपलब्ध संसाधनों के साथ बनाए रख सकता है। मानवीय संदर्भ में चर्चा की जाने वाली क्षमता मानव आबादी है जिसे पृथ्वी अनिश्चित काल तक अपने संसाधनों के संबंध में बनाए रख सकती है। सिद्धांत को 1798 में एक अंग्रेजी पादरी थॉमस माल्थस द्वारा सामने रखा गया था क्योंकि उन्होंने भविष्यवाणी की थी कि किसी दिन बढ़ती मानव आबादी एक बिंदु पर पहुंच जाएगी जहां उपलब्ध संसाधनों को सीमा से परे बढ़ाया जाएगा और अकाल और सामूहिक मौतें होंगी।

जनसंख्या का विस्फोट

दुनिया की आबादी अभूतपूर्व दर से बढ़ रही है। शोध और ऐतिहासिक जनगणना के प्रमाणों के अनुसार, पिछले 1, 500 वर्षों की तुलना में वैश्विक जनसंख्या पिछले 100 वर्षों में 100% तेजी से बढ़ी है। पहली शताब्दी ईस्वी में, वैश्विक आबादी 300 मिलियन लोगों की अनुमानित थी, जो 19 वीं शताब्दी में 1 बिलियन की आबादी तक पहुंचने में 1, 800 साल लग गए। वर्तमान वैश्विक आबादी लगभग 7.5 बिलियन लोगों की है, जो पिछली दो शताब्दियों में 750% वृद्धि का संकेत देती है। वैश्विक मानव आबादी 2050 में 9.5 बिलियन लोगों तक पहुंचने का अनुमान है, 50 से कम वर्षों में 126% की वृद्धि।

जनसंख्या बूम के निहितार्थ

पृथ्वी के पास सीमित संसाधन हैं जिनमें भूमि, जल और ऊर्जा की खपत शामिल है। कई वैज्ञानिक और जनसांख्यिकी विश्लेषक सहमत हैं कि पृथ्वी मौजूदा संसाधनों के साथ अपनी वर्तमान आबादी को बनाए रखने में सक्षम है, लेकिन केवल तभी जब उक्त संसाधनों का उपयोग किया जाता है। अध्ययनों से पता चलता है कि वर्तमान वैश्विक खाद्य उत्पादन वैश्विक खपत से अधिक है और भविष्य में भी वैश्विक आबादी को बनाए रख सकता है जब कृषि प्रथाओं में सुधार लागू किया जाता है। कृषि में मुख्य मुद्दा खाद्य वितरण के साथ-साथ अस्थिर पशुधन कृषि है जो भूमि और जल संसाधनों के बहुमत का उपभोग करता है। इसलिए, कई वैज्ञानिकों के अनुसार, पृथ्वी की वहन क्षमता, खाद्य उत्पादन पर बहुत कम या कोई प्रभाव नहीं डालती है। संसाधन जो कम होने का सबसे बड़ा जोखिम है, वह गैर-नवीकरणीय ऊर्जा स्रोतों के वर्तमान उपयोग के कारण ऊर्जा है जो पर्यावरण को भी नुकसान पहुंचाता है। कई संकेतकों के साथ-साथ ऐतिहासिक बेंचमार्क का उपयोग करते हुए, पृथ्वी की मानव वहन क्षमता लगभग 10 बिलियन लोगों की अनुमानित है।

भविष्य के अनुमान

जबकि वैश्विक मानव आबादी में पिछली दो शताब्दियों में वृद्धि देखी गई है, इस प्रवृत्ति में कई क्षेत्रों में गिरावट देखी जा रही है जहां जन्म दर में गिरावट आ रही है और परिवार छोटे होते जा रहे हैं। यह प्रवृत्ति मुख्य रूप से जापान और कई उत्तरी यूरोपीय देशों में स्पष्ट है जहां जनसांख्यिकी ने जन्म दर में 50% तक पहुंचने में गिरावट दिखाई है। यह हालिया प्रवृत्ति 21 वीं शताब्दी के अंत में वैश्विक जनसंख्या वृद्धि में गिरावट के कई अनुमानों के साथ एक वैश्विक घटना बन रही है।

क्या किया जा सकता है?

ऐसे कई उपाय किए गए हैं जो जनसंख्या वृद्धि को मापने के लिए उठाए गए हैं, खासकर विकासशील देशों में। चीन में एक विवादास्पद "एक बच्चा" नीति लागू की गई है, जिसमें प्रति घर कई बच्चों के जन्म को हतोत्साहित करने के लिए अफ्रीका में कई देशों ने जनसंख्या वृद्धि दर को कम करने और धीमा करने के लिए जन्म नियंत्रण विधियों को अपनाया है।

अनुशंसित

आर्कटिक महासागर कहाँ है?
2019
दुनिया की 10 सबसे अद्भुत छिपकली प्रजातियां
2019
एक सवाना बायोम में क्या भूमिका निभाते हैं?
2019